ब्रांडेड चश्मा’ Hindi Story

━━━━━━━━━━━━━━━━
_✍️ ।। ✍️सहरिया
संजय सहरिया मुजफ्फरपुर (बिहार)
━━━━━━━━━━━━━━━━

रोज तो पंकजा शाम चार बजे तक घर आ जाया करती थी पर आज सात बजने वाले थे ऊपर से बाहर तेज बारिश और उसका फोन भी पहुंच से बाहर बता रहा था.
महीने भर पहले ही पंकजा का गवर्मेन्ट हाई स्कूल में विज्ञान की शिक्षिका के रूप में चयन हुआ था.पति विनय, ननद रिंकू और सात साल की बेटी काजल इस चयन से बेहद खुश हुए थे पर सासु मां बहू के बाहर जाकर काम करने के पक्ष में नही थी.
बाकी सब के तैयार होने के कारण उन्हें अपनी जिद्द से पीछे हटना पड़ा था पर मन से अभी भी वो काफी नाराज थी.
आज पंकजा की पहली सैलरी मिलने का दिन था.सभी सुबह से अपनी अपनी मांगों की लिस्ट पंकजा को थमा रहे थे.पर सासु मां अभी भी सीधे मुंह पंकजा से बात करने को तैयार नही थी.
चार बजते ही रिंकू और काजल दरवाजे के पास आकर बैठ गई थी. दोनो में शर्त लग रही थी कि पंकजा आज किसके लिए क्या लेकर आएगी.

https://www.anabizcollection.com/product-category/army-store/

उधर विनय भी बार बार घर कॉल कर पंकजा के बारे में पूछ रहा था पर पता नहीं क्यो पंकजा को आज इतना समय क्यो लग रहा था.
“मेरी बात बहू ने मान ली होती तो आज ये संकट खड़ा नही हुआ होता” सासु मां बेहद नाराजगी और चिंता के साथ कह रही थी.

तभी दरवाजे पर बेल बजी और सामने पंकजा खड़ी थी.

इससे पहले कि सवालों की बौछार होती वो सीधे सासु मां के कमरे में आ गयी.
उनका पुराना चश्मा उतार कर पंकजा ने नया ब्रांडेड फ्रेम वाला चश्मा बैग से निकाल पहना दिया.
“माँ के लिए पहली तनख्वाह से ये चश्मा लेने का प्लान किया था मैंने. दुकानदार ने कहा कि पावर बनाकर फिट करने में दो घण्टे लगेंगे तो मैं वही रुक गई. पता ही नही चला कि उस शॉप में नेटवर्क नहीं पकड़ता है.” बोलकर पंकजा भींग चुके कपड़े बदलने कमरे में चली गयी.बहू के जॉब करने से नाराज चल रही सासु माँ बार बार चश्मा लगा और निकाल कर देख रही थी और बाकी सारे लोग उनकी इस मासूमियत को देखकर मुस्कुरा रहे थे.
पहली सैलरी के इस तोहफे ने सबको एक साथ खुश कर दिया था.

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! अपनी प्रतिक्रियाएँ हमें बेझिझक दें

▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬
यदि आपके पास हिंदी में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप anabiz story में ग्रुप के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम और जानकारी के साथ E-mail करें. हमारी Id है:support@anabizcollection.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ सुनहरे पन्ने ग्रुप में शेयर करेंगे. धन्यवाद !
━━━━━━━━━━━━━━━━
अगर आपको ये Article पसन्द आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ Whats app, Facebook आदि पर शेयर जरूर करिएगा। आपके प्यार व सहयोग के लिए आपका बहुत-2 धन्यवाद।

 DONATE SOME MONEY TO THIS BLOG AND CREATORS

निस्वार्थ कर्म Hindi Story

0
Open chat